पंकज सुबीर के चर्चित उपन्यास "अकाल में उत्सव" की आकाशवाणी के इन्द्रप्रस्थ चैनल से प्रकाशित समीक्षा। समीक्षक हैं सुप्रस्द्धि कहानीकार, समीक्षक तथा आलोचक डॉ. प्रज्ञा।

"शिवना साहित्यिकी" का अक्टूबर-दिसम्बर अंक

शिवना प्रकाशन की त्रैमासिक पत्रिका "शिवना साहित्यिकी" का अक्टूबर-दिसम्बर अंक अब ऑनलाइन उपलब्‍ध है। अंक में शामिल हैं
आवरण कविता तथा अवरण चित्र / पल्लवी त्रिवेदी Pallavi Trivedi , संपादकीय Shaharyar , व्यंग्य चित्र / काजल कुमार Kajal Kumar , शख़्सियत (मलका नसीम) डॉ. विजय बहादुर सिंह Vijay Bahadur Singh , कविताएँ - कुछ नज़्में / राजेश मिश्रा @raj , दो कविताएँ / रोज़लीन , कहानी- सेंसलेस / महेश शर्मा Mahesh Sharma , आलोचना- राकेश बिहारी (तरुण भटनागर Tarun Bhatnagar की कहानी पर एकाग्र) , फिल्म समीक्षा के बहाने - पिंक / वीरेन्द्र जैन Virendra Jain , डायरी- कृष्णा अग्निहोत्री Krishna Agnihotri , ग़ज़ल - इस्मत ज़ैदी Ismat Zaidi Shifa ‘शिफ़ा’, ख़बर-कथा - हेलो कौन भावना दीदी / समीर यादव Sameer Yadav , पेपर से पर्दे तक... / कृष्णकांत पंड्या Krishna Kant Pandya , समीक्षा- पाँच विधाएँ - पंच कन्याएँ ( Neelesh Raghuwanshi, Pragya Rohini, Pallavi Trivedi, Joyshree Roy, angha joglekar) सौरभ पाण्डेय Saurabh Pandey / निकला न दिग्विजय को सिकंदर Zaheer Qureshi , दिविक रमेश Divik Ramesh / शुक्रगुज़ार हूँ दिल्ली Santosh Shreyaans , अमृतलाल मदान Amrit Lal Madan / छुअन Nijhawan Vikesh तथा अन्य कहानियाँ , महेश कटारे Mahesh Katare / उत्तरायण @sudershan Priydarshini , पड़ताल- बाल-रंगमंच : सम्भावनाएँ और चुनौतियाँ / डॉ. प्रज्ञा Pragya Rohini, डिज़ाइन Sunny Goswami
संरक्षक तथा प्रधान संपादक Sudha Om Dhingra, प्रबंध संपादक Neeraj Goswamy, संपादक Pankaj Subeer, सह संपादक Parul Singh, कार्यकारी संपादक Shaharyar
प्रिंट कॉपी भी शीघ्र ही आपके हाथों में होगी ।
डाउनलोड लिंक

'शिवना साहि‍त्यिकी' का जुलाई-सितम्‍बर 2016 अंक अब ऑनलाइन उपलब्‍ध है



अंक को ऑनलाइन पढ़ने हेतु लिंक्‍स: https://issuu.com/pankajsubeer/docs/shivna_sahityiki__july_september_20
http://www.slideshare.net/subeerin/shivna-sahityiki-july-september-2016

इस अंक में शामिल रचनाकार हैं : आवरण चित्र कविता Veeru Sonker, व्‍यंग्‍य चित्र Kajal Kumar, कविताएं Ashok Kumar Pandey, कहानी : 'टच मी नॉट' Geeta Shree, अालोचना - राकेश बिहारी द्वारा Akanksha Pare की कहानी 'शिफ्ट+कंट्रोल+ऑल्‍ट=डिलीट' पर एकाग्र आलेख, गौतम राजरिशी द्वारा Pankaj Mitra की कहानी 'इवेंट मैनेजर' पर एकाग्र आलेख, Pallavi Trivedi की डायरी 'कोहरा-कोहरा हुआ मन- एक सर्द दिन की डायरी', Rajshree Mishra की ख़बर कथा 'मेरा सच', 'फिल्‍मी दुनिया से' स्‍तंभ 'सिनेमा - एक कला और तकनीक' Krishna Kant Pandya, Pragya Rohini के कहानी संग्रह 'तक्‍सीम' पर वेदप्रकाश सिंह की समीक्षा, विमलेश त्रिपाठी के उपन्‍यास 'कैनवास पर प्रेम' पर GangaprasadSharma Gunshekhar की समीक्षा, Brajesh Rajput की पुस्‍तक 'चुनाव, राजनीति और रिपोर्टिंग' पर सुशील कुमार शर्मा की समीक्षा। Sudha Om Dhingra के उपन्‍यास 'नक्‍़क़ाशीदार केबिनेट' पर Ajay Navaria की पुस्‍तक चर्चा। लोकेश कुमार सिंह 'साहिल' की ग़ज़लें । आवरण चित्र - Pallavi trivedi photography, डिज़ायनिंग - Sunny Goswami
संपादक मंडल - सलाहकार संपादक Sudha Om Dhingra, प्रबंध संपादक Neeraj Goswamy, कार्यकारी संपादक Shaharyar, सह संपादक Parul Singh
अंक की पीडीऍफ डाउनलोड करने हेतु लिंक
http://www.filehosting.org/file/details/586646/SHIVNA%20SAHITYIKI%20%20JULY%20SEPTEMBER%202016.pdf
आपकी प्रतिक्रियाओं का इंतज़ार रहेगा
संपादक

शिवना प्रकाशन द्वारा शाम आयोजित पुण्य स्मरण संध्या

शिवना प्रकाशन द्वारा शाम आयोजित पुण्य स्मरण संध्या में स्व. जनार्दन शर्मा, स्व. नारायण कासट, स्व. अबादत्त भारतीय, स्व. ऋषभ गांधी, स्व. कैलाश गुरू स्वामी, स्व. कृष्ण हरि पचौरी, स्व. मोहन राय तथा स्व. रमेश हठीला को काव्यांजलि अर्पित की गई। इस पुण्य स्मरण संध्या में स्व. बाबा अबादत्त भारतीय स्मृति शिवना सम्‍मान श्रीमती स्वाति तिवारी को, जनार्दन शर्मा स्मृति शिवना सम्‍मान श्री म्‍मोहन सगोरिया को, स्व. रमेश हठीला शिवना सम्‍मान शायरा श्रीमती इस्मत ज़ैदी को तथा स्व. मोहन राय स्मृति शिवना समान श्री रियाज़ मोहाद रियाज़ को प्रदान किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता मध्य प्रदेश साहित्य अकादमी की सचिव श्रीमती नुसरत मेहदी ने की जबकि मुख्‍य अतिथि के रूप में नगरपालिका अध्यक्ष श्री नरेश मेवाड़ा तथा विशिष्ट अतिथि के रूप में इछावर के विधायक श्री शैलेन्द्र पटेल उपस्थित थे।
दीप प्रज्जवलन तथा दिवंगत साहित्यकारों, पत्रकारों को अतिथियों द्वारा श्रद्धांजलि अर्पित करने के साथ कार्यक्रम का शुभारंभ हुआ। बी बी एस क्लब की ओर से वसंत दासवानी ने पुष्प गुच्छ भेंट कर सभी अतिथियों का स्वागत किया। तत्पश्चात शिवना प्रकाशन द्वारा साहित्यकारों को समानित किया गया। अतिथियों ने स्व. बाबा अबादत्त भारतीय स्मृति शिवना सम्‍मान जानी मानी कथाकारा श्रीमती स्वाति तिवारी को, जनार्दन शर्मा स्मृति शिवना सम्‍मान सुप्रसिद्ध कवि श्री मोहन सगोरिया को, स्व. रमेश हठीला शिवना सम्‍मान वरिष्ठ शायरा श्रीमती इस्मत ज़ैदी को तथा स्व. मोहन राय स्मृति शिवना सम्‍मान सीहोर के ही वरिष्ठ शायर श्री रियाज़ मोहाद रियाज़ को प्रदान किया गया। सभी को शॉल श्रीफल समान पत्र तथा पुष्प गुच्छ भेंट कर ये समान प्रदान किये गये। इस अवसर पर शिवना प्रकाशन की आठ पुस्तकों, मुकेश दुबे के तीन उपन्यासों ‘क़तरा-क़तरा ज़िंदगी’, ‘रंग ज़िंदगी के’ तथा ‘कड़ी धूप का सफ़र’, नुसरत मेहदी के उर्दू ग़ज़ल संग्रह ‘घर आने को है’, अमेरिका की कवयित्री सुधा ओम ढींगरा के काव्य संग्रह ‘सरकती परछाइयाँ’, पूर्व पुलिस महानिरीक्षक श्री आनंद पचौरी के काव्य संग्रह ‘चलो लौट चलें’ तथा मुबई की कवयित्री मधु अरोड़ा के काव्य संग्रह ‘तितलियों को उड़ते देखा है’, हिन्दी चेतना ग्रंथमाला ‘नई सदी का कथा समय’ का विमोचन किया गया। समान समारोह के पश्चात कवि समेलन में समानित तथा आमंत्रित कवियों ने अपनी प्रतिनिधि रचनाओं का पाठ किया। स्वाति तिवारी,  मोहन सगोरिया, इस्मत ज़ैदी, नुसरत मेहदी, तिलकराज कपूर, रियाज़ मोहमद रियाज़, मुकेश दुबे, गौतम राजरिशी, हरिवल्लभ शर्मा तथा वंदना अवस्थी दुबे ने अपनी प्रतिनिधि रचनाओं का पाठ कर दिवंगत साहित्यकारों को काव्यांजलि प्रदान की। कार्यक्रम में बड़ी संया में शहर के सुधि श्रोता, पत्रकार एवं प्रबुद्ध जन उपस्थित थे। अंत में आभार शैलेश तिवारी ने व्यक्त किया।

DSC_5447 DSC_5457 DSC_5470 DSC_5477 DSC_5482 DSC_5483 DSC_5485 DSC_5490 DSC_5492 DSC_5494 DSC_5496 DSC_5499 DSC_5501 DSC_5503 DSC_5504 DSC_5505 DSC_5507 DSC_5508 DSC_5511 DSC_5515 DSC_5518 DSC_5519 DSC_5523 DSC_5525 DSC_5529 DSC_5530 DSC_5532 DSC_5533 DSC_5535 DSC_5536 DSC_5537 DSC_5539 DSC_5541 DSC_5542

डॉ. सुधा ओम ढींगरा के कविता संग्रह सरकती परछाइयां का विमोचन

DSC_0062

कथाकार कवयित्री सुधा ओम ढींगरा के शिवना प्रकाशन द्वारा प्रकाशित कविता संग्रह सरकती परछाइयां का विमोचन हिन्‍दी चेतना अन्तर्राष्ट्रीय सम्‍मेलन में स्कारबरो सिविक सेण्टर, ओण्टेरियो कैनेडा में हुआ। वरिष्‍ठ कथाकार श्री महेश कटारे, प्रवासी क‍थाकारा डॉ.सुदर्शन प्रियदर्शिनी, श्री जो ली (काउन्सलर- मार्ख़म), भारत के काउन्‍सलेट जनरल श्री अखिलेश मिश्रा, हिन्दी चेतना के मुख्य सम्पादक श्री श्याम त्रिपाठी ने सकरती परछाइयां का विमोचन किया। पुस्‍तक तथा लेखिका का परिचय कहानीकार पंकज सुबीर ने प्रस्‍तुत किया। इस अवसर पर बोलते हुए डॉ सुधा ओम ढींगरा ने कहा कि इस संग्रह की कविताएं कुछ अलग तरह की कविताएं हैं तथा आशा है कि पाठक इन कविताओं को पसंद करेंगे। उन्‍होंने कहा कि कविता लिखना उनके लिए अपने आप से ही पहचान करने का एक जरिया रहा है। कविताएं अपने आप से संवाद स्‍थापित करने का तरीका है। पिछला कविता संग्रह धूप से रूठी चांदनी जिस प्रकार पाठकों ने पसंद किया था उसी से उत्‍साहित होकर इस संग्रह की भूमिका बनी। विमोचन के अवसर पर एक कवि सम्‍मेलन का भी आयोजन किया गया । वरिष्‍ठ साहित्‍यकार रामेश्वर काम्‍बोज हिमांशु की अध्‍यक्षता में आयोजित कवि सम्‍मेलन में सुदर्शन प्रियदर्शिनी, पंकज सुबीर, अभिनव शुक्‍ल, धर्मपाल जैन, राज माहेश्‍वरी,  शैलजा सक्‍सेना, शैल शर्मा, दीप्ति कुमार, सुधा ओम ढींगरा तथा श्‍याम त्रिपाठी ने अपनी रचनाओं का पाठ किया। कवि सम्‍मेलन का संचालन अभिनव शुक्‍ल ने किया । इस अवसर पर बड़ी संख्या में हिन्दी प्रेमी और साहित्यकार उपस्थित थे ।

सरकती परछाइयां ( कविता संग्रह) डॉ. सुधा ओम ढींगरा

पृष्‍ठ 120, मूल्‍य 150 रुपये, वर्ष 2014

पुस्‍तक प्राप्‍त करने के लिए लिखें

शिवना प्रकाशन, पी. सी. लैब, सम्राट कॉम्‍प्‍लैक्‍स बेसमेंट, बस स्‍टैंड के सामने, सीहोर 466001] मध्‍यप्रदेश, दूरभाष +91-7562405545, +91-7562695918  मेल shivna.prakashan@gmail.com

हमको भी बहुत कुछ सीखने को मिलेगा ब्रजेश राजपूत की इस पुस्तक से : शिवराज सिंह चौहान शिवना प्रकाशन के आयोजन में पत्रकार ब्रजेश राजपूत की पुस्तक का विमोचन मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने किया

DSC_0032 DSC_0037

चुनाव हो जाने के बाद चुनावों के बारे में पढ़ना रोचक भी होता है और ज्ञान वर्द्धक भी । दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र हमारा देश है जहां इतने आराम से सत्ता परिवर्तन हो जाते हैं जिस पर दुनिया चकित रह जाती है। मैंने पुस्तक को देखा है और उसमें कई कई ऐसी बातें भी हैं जिन्हें हम भी चुनाव के बाद भूल जाते हैं ।

DSC_0055 DSC_0044

चुनाव के दौरान जनता, नेता और कार्यकर्ता क्या क्या करते हैं इस पर ब्रजेश राजपूत ने बहुत सुंदर तरीके से लिखा है। यह एक जरूरी पुस्तक है हमको भी बहुत कुछ सीखने मिलेगा इस पुस्तक से और अपने आप को देखने का भी अवसर मिलेगा । ब्रजेश जी को पुस्तक लिखने हेतु साधुवाद तथा शिवना प्रकाशन को बहुत धन्यवाद जिन्होंने मध्यप्रदेश को जानने के लिये एक  महत्त्वपूर्ण पुस्तक का प्रकाशन किया।

DSC_0045 DSC_0050

उक्त उद्गार मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शिवना प्रकाशन द्वारा आयोजित वरिष्ठ पत्रकार ब्रजेश राजपूत की पुस्तक चुनाव, राजनीति और रिपोर्टिंग के विमोचन समारोह के अवसर पर व्यक्त किये।

DSC_0006 DSC_0007

इस अवसर पर विशिष्ट अतिथि के रूप वरिष्ठ पत्रकार श्री गिरजाशंकर एवं मीडिया समीक्षक श्री मुकेश कुमार उपस्थित थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता गलगोतिया विश्वविद्यालय के डीन प्रो. प्रदीप कृष्णात्रै ने की ।

DSC_0019 DSC_0018
कार्यक्रम के प्रारंभ में अतिथियों का स्वागत प्रकाशन की ओर से पंकज सुबीर, श्रवण मावई, सनी गोस्वामी तथा शहरयार खान ने किया।

DSC_0025 DSC_0020

ब्रजेश राजपूत की पुस्तक पर बोलते हुए श्री मुकेश कुमार ने कहा कि ब्रजेश राजपूत ने पुस्तक को जिस प्रकार सारी जानकारियों को समेटते हुए लिखा है वह पत्रकारिता के विद्यार्थियों के लिये बहुत उपयोगी साबित होगी।  श्री गिरजाशंकर ने अपने संबोधन में कहा कि कोई चुनाव लड़ता है कोई लड़वाता है कोई वोट डालता है और कोई इन सबको देखता है लेकिन चुनाव को पढ़ना भी एक अनुभव है और इस किताब में हम चुनाव को पढ़ेंगे। ब्रजेश राजपूत की ये पुस्तक एक महत्त्वपूर्ण पुस्तक है।

DSC_0041 DSC_0033

तत्पश्चात अतिथियों ने मध्यप्रदेश के विधानसभा चुनाव 2013 पर लिखी गई ब्रजेश राजपूत की पुस्तक का विमोचन किया।

DSC_0517 DSC_0518

प्रकाशन पंकज सुबीर ने लेखक ब्रजेश राजपूत को प्रकाशन की ओर से सम्मानित किया।

DSC_0508 DSC_0507

कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे प्रो प्रदीप कृष्णात्रै ने अपने अध्यक्षीय भाषण में कहा कि 2013 के चुनाव पर 2014 में ही पुस्तक आ जाना और इतनी अच्छी पुस्तक का आ जाना एक महत्त्वपूर्ण घटना है। ब्रजेश राजपूत ने बहुत मेहनत से और पूरी रोचकता के साथ पुस्तक को लिखा है।

DSC_0065 DSC_0062

ब्रजेश राजपूत ने इस अवसर पर बोलते हुए कहा कि टीवी का पत्रकार बहुत अस्त व्यस्त जीवन जीता है, उसके लिये कोई पुस्तक लिख लेना और समय से लिख लेना बहुत मुश्किल होता है। पत्रकार को पता ही नहीं होता कि उसे अगले ही दिन कहाँ जाना है।

DSC_0015 DSC_0039

मेरे लिये पुस्तक को लिखते समय यही बड़ी चुनौती थी। 2013 के चुनाव बड़े रोचक चुनाव थे, जिस प्रकार प्रचार हुआ पहली बार सोशल मीडिया का व्यापक प्रयोग हुआ उस सबके चलते ही ये पुस्तक लिखने के बारे में मैंने सोचा। आज जब ये पुस्तक आ गई है तो मेरे लिये ये विशेष दिन है, इसलिये भी कि मुख्यमंत्री ने इसके विमोचन के लिये समय दिया।

DSC_0511 DSC_0510

कार्यकम के अंतिम चरण में मुख्यमंत्री सहित सभी अतिथियों को स्मृति चिह्न के रूप में शिवना प्रकाशन की पुस्तकों का सेट सीहोर के पत्रकार श्रवण मावई ने भेंट किया गया। मुख्यमंत्री ने स्मृति चिह्न के रूप में पुस्तकें देने की विशेष रूप से सराहना की।

DSC_0068 DSC_0067

कार्यक्रम का संचालन पंकज सुबीर ने किया।

DSC_0023 DSC_0022

इस अवसर पर बड़ी संख्या में पत्रकार, साहित्यकार उपस्थित थे। 

कार्यक्रम का वीडियो


ब्रजेश राजपूत का पुस्‍तक को लेकर साक्षात्‍कार

कार्यक्रम के फोटो

https://plus.google.com/photos/117630823772225652986/albums/6000889900803828417

समाचारों के लिंक

http://shar.es/BLNjK 

http://bhadas4media.com/print/18931-2014-04-09-10-42-39.html

http://www.insighttvnews.com/newsdetails.php?show=39799

http://www.sbs.com.au/yourlanguage/hindi/highlight/page/id/328764/t/In-India-Chunav-Rajneeti-and-Reporting

http://hindimedia.in/3/news/Brijesh-Rajput-we-will-learn-much-from-this-book-Shivraj-Singh-Chouhan

http://www.rajkaaj.com/news.php?id=5638&catid=1

http://www.rainbownews.in/region.php?nid=5913

http://www.youtube.com/watch?v=RJdUnfZu_Jo

http://mediamorcha.com/entries/विविध-खबरें/चुनाव-होने-के-बाद-इस-बारे-में-पढ़ना-रोचक-होता-है-शिवराज-सिंह-चौहान

http://khabarnation.com/चुनाव-राजनीति-और-रिपोर्ट/

http://ajmernama.com/national/110429/