शिवना के सरस्वती पूजन में शामिल हुए बुध्दिजीवी, शिवना के नये काव्य संग्रह अनुभूतियां का विमोचन

अग्रणी साहित्यिक संस्था शिवना ने वसंत पंचमी के अवसर पर ज्ञान की देवी माँ सरस्वती का पूजन समारोह आयोजित किया । आयोजन में शहर के साहित्यकार, पत्रकार, शिक्षाविद तथा बुध्दिजीवी शामिल हुए । स्थानीय पीसी लैब पर आयोजित सरस्वती पूजन तथा गोष्ठी के कार्यक्रम में शिक्षाविद् प्रो: डॉ. भागचंद जैन मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित थे । कार्यक्रम की अध्यक्षता हिंदी की प्राध्यापक डॉ. पुष्पा दुबे ने की ।

DSC_5852

सर्वप्रथम पंडित शैलेश तिवारी के मार्गदर्शन में शिवना के संस्थापक वरिष्ठ साहित्यकार श्री नारायण कासट ने सभी अतिथियों के साथ माँ सरस्वती का विधिपूर्वक पूजन किया ।

DSC_5864

तथा सभी उपस्थित जनों ने माँ सरस्वती को पुष्पाँजलि अर्पित की ।

DSC_5866

प्रथम खंड में विचार गोष्ठी का शुभारंभ करते हुए संचालक के रूप में श्री नारायण कासट ने वसंत पंचमी तथा निराला जयंती पर विस्तृत प्रकाश डाला । वरिष्‍ठ साहित्‍यकार श्री कासट लम्‍बी बीमारी से लगभग ढाई साल तक ग्रस्‍त रहने के बाद किसी साहित्यिक आयोजन में उपस्थित हुए । वे पिछले ढाई साल से लगातार बिस्‍तर पर ही रहे । उन्‍होंने अपने संबोधन में कहा कि मुझे तो अब लग ही नहीं रहा था कि मैं अब वापस आ पाऊंगा किन्‍तु आज पुन: यहां आकर मुझे ऐसा लग रहा है कि मेरा नवजीवन हो गया है । ये सबकी शुभकामनाओं का ही फल है ।

DSC_5899

उन्होंने कहा कि जो पुरातन हो चुका है उसका अंत और नूतन का प्रारंभ ही बसंत है । इसे हम कह सकते हैं कि पुरातन का बस अंत ही बसंत हैं ।

DSC_5901

इस अवसर पर शिवना प्रकाशन द्वारा प्रकाशित नये काव्य संग्रह इंग्लैंड के भारतीय मूल के कवि श्री दीपक चौरसिया मशाल के अनुभूतियाँ को शिवना के श्री रमेश हठीला ने माँ सरस्वती के चरणों में अर्पण किया  । साथ ही भारतीय ज्ञानपीठ द्वारा प्रकाशित पंकज सुबीर के कहानी संग्रह ईस्ट इंडिया कम्पनी को भी मां सरस्वती को अर्पित किया गया ।

DSC_59012

मुख्य अतिथि के रूप में बोलते हुए प्रो. भागचंद जैन ने कहा कि वसंत बताता है कि हमको प्रेम बाँटना सीखना चाहिये । प्रेम और स्नेह बाँटने से मनुष्य जीवन सफल हो जाता है ।

DSC_59072

अपने अध्यक्षीय भाषण में प्रो. डॉ पुष्पा दुबे ने कहा कि वसंत पंचमी सरस्वती के अवतरण का दिवस है और हमारी लेखनी को मां सरस्वती के आशीर्वाद की आवश्यकता हमेशा ही बनी रहती है । उन्होंने कहा कि साहित्यकार के लिये संवेदनशील होना सबसे आवश्यक है और ये संवेदना उसे माँ सरस्वती ही प्रदान करती हैं । उन्होंने पंकज सुबीर के कहानी संग्रह ईस्ट इंडिया कम्पनी पर भी चर्चा की ।

 DSC_5902 

कार्यक्रम के दूसरे खंड में आयोजित काव्य गोष्ठी का शुभारंभ कु. रागिनी शर्मा ने माँ सरस्वती की वंदना के साथ किया । रागिनी शर्मा ने श्री नारायण कासट के आग्रह पर लिंगाष्टक का भी सस्वर पाठ किया । जिस पर श्रोता मंत्रमुग्‍ध हो गये  । उल्‍लेखनीय है कि रागिनी प्रदेश के वरिष्‍ठ छायाकार श्री राजेंद्र शर्मा की सुपुत्री हैं तथा संस्‍कृत में विशेष शिक्षा प्राप्‍त कर रही हैं । कालीदास के संस्‍कृत नाटक में अभिनय भी कर चुकी हैं ।

 DSC_5905 DSC_5907  DSC_5908

कवि गोष्ठी में लक्ष्मण चौकसे ने अपनी छंद मुक्त कविता आगे बढ़ता चल, श्री द्वारका बाँसुरिया ने अपना गीत जीवन रथ के सुख दुख दो पहिये चलना जीवन का सार, कवि लक्ष्मीनारायण राय ने दर्दीली जिंदगी और घुटन भरे गीत, प्रस्तुत की ।

DSC_5911DSC_5910DSC_5913  

रागिनी शर्मा ने कविता आज रायाभिषेक हुआ था श्रीराम का, रमेश हठीला ने गीत मेरे अगर गाएँ मेरे अधर, ये तो एहसान होगा मेरे गीत पर, गूंगे प्राणों को मिल जाए स्‍वर माधुरी गुनगुना दें मेरे गीत को आप गर,  श्री शैलेश तिवारी ने छंदमुक्त कविता माँ शारदे को धन्यवाद और पंकज सुबीर ने गीत तेज समय की नदिया के बहते धारे हैं, यायावर हैं, आवारा हैं, बंजारे हैं प्रस्तुत किये ।

DSC_5916 DSC_58992

कार्यक्रम का संचालन कर रहे वरिष्ठ साहित्यकार श्री नारायण कासट ने अपने कई मुक्तक पढ़े दिल भी ना साथ गुँथे जब तक फूलों का हार अधूरा है, जैसे रागों के प्राण गिना स्‍वर का संसार अधूरा है, और श्रोताओं के बहुत अनुरोध पर उनहोंने अपनी सुप्रसिद्ध नथनिया गजल का सस्वर पाठ किया । उनका एक  मुक्‍तक-

आंखों में वासंती आमंत्रण आंज कर,

जूड़े में मदमाती मलय गंध बांध कर

गुपचुप सन्‍नाटे में निकली अभिसारिका,

संयम की लजवंती देहरी को लांघकर 

DSC_5918

अंत में शिवना की ओर से जयंत शाह ने आभार व्यक्त करते हुए अतिथियों को धन्यवाद दिया । कार्यक्रम में सर्वश्री अनिल पालीवाल, राजेन्द्र शर्मा, हितेन्द्र गोस्वामी, उमेश शर्मा, चंद्रकांत दासवानी, श्रीमती जैन, नरेश तिवारी, सुनील शर्मा, राजेश सेल्वराज, सुरेंद्र ठाकुर, सनी गोस्वामी, सुधीर मालवीय सहित प्रबुध्द श्रोता उपस्थित थे ।

6 comments:

Udan Tashtari said...

आनन्द आ गया पूरी विस्तृत रिपोर्ट पढ़ और तस्वीरें देखकर.

आदरणीय श्री नारायण कासट जी को तस्वीरों में देखना बहुत सुखद रहा. याद आ गया वो दिन जब वो बिस्तर पर थे और हम और आप उनके घर उनका आशीष प्राप्त करने गये थे.

मुलाकात हो तो मेरा चरण स्पर्श कहियेगा.

निर्मला कपिला said...

िस विसतरित रिपोऋत के लिये धन्यवाद दीपक को बहुत बहुत बधाई पुस्तक मेरे पास पहुँच गयी है । पुस्तक की बनावट साज सज्जा और आकार बहुत आकर्शक है। बाकी विवरण एक पोस्ट के रूप मे दूँगी जल्दी। शिवना प्रकाशन को इस सुन्दर उत्कृ्ष्ट प्रकाशन के लिये बहुत बहुत बधाई। सभी प्रतिभागिओं शिवना परिवार को बधाई आपको भी बधाई और आशीर्वाद।

रविकांत पाण्डेय said...

बहुत सुंदर! मखमली एहसास हो रहा है पूरा विवरण पढ़कर। इसकी रिकार्डिंग भी उपलब्ध कराई जाये।

Dipak 'Mashal' said...

Gurudev, Report padhane ke liye shukriya...
pustak ko Vasant Panchmi ke paavan parv par maa ke charnon me arpit karne ke liye bhi...
Jai Hind...

सुलभ 'सतरंगी' said...

सचित्र विवरण देख आनंद आया. कई नए व्यक्तित्व से परिचय हुआ.

"अर्श" said...

आनंद की अनुभूति हो रही है ... ये एहसास आज इधर के खिली धुप से भी ऊपर है ... इस रिपोर्ट को पढ़ कर ... सचित्र वर्णन.. अहा मजा आगया परम आदरणीय श्री कशात जी को मेरा प्रणाम और साथ में हठीला साहिब को भी ... गुरु देव पहली दफा आपको पूजन करते देख और भी अच्छा लग रहा है ... वेसे माँ की वन्दना हमारी नियति है मगर आप..!!!!! अच्छा लगा...


प्रणाम गुरु देव


अर्श